मां की सहेली को उसी के घर में चोदा

desi porn kahani, kamukta

मेरा नाम राहुल है और मैं स्कूल मैं पढ़ाई करता हूं। मेरी स्कूल में सब लोग मुझे रॉकी बुलाते हैं। क्योंकि मेरा घर का नाम रॉकी ही है। सब लोग मुझसे बहुत ही खुश होते हैं और कहते हैं कि तुम बहुत ही ज्यादा मस्त लड़के हो। मैं बहुत ही ज्यादा मस्ती करता रहता हूं और मेरी शरारत से सब खुश होते हैं। मेरे साथ के जितने भी दोस्त हैं वह मुझे हमेशा ही कहते हैं कि तुम्हारे लिए कुछ भी नामुमकिन नहीं है। तुम्हें कुछ भी काम कह दिया जाए तो वह तुम चुटकियों में ही कर देते हो। क्योंकि स्कूल में लड़कों ने मुझसे कई बार शर्त लगाई थी। मैंने हर बार उनकी शर्त एक्सेप्ट कर ली और मैंने हमेशा बहुत शर्ते जीती है। इस वजह से वह मुझे कहते हैं कि तुम्हारे लिए कुछ भी असंभव नहीं है। एक बार उन्होंने मुझे कहा कि तुम्हें एक मैडम को प्रपोज करना है। मैंने वह शर्त मान ली। वह मैडम बहुत ही ज्यादा गुस्से वाली थी लेकिन अब वह हमारे स्कूल में नहीं है। अब उनका ट्रांसफर कहीं और हो चुका है। परंतु मैंने उन्हें भी प्रपोज कर दिया था। जिससे कि लड़के मुझे कहते थे कि तुम्हारे अंदर बहुत ही हिम्मत है और तुम कुछ भी कर सकते हो।

मुझे भी यह सुनकर बहुत ही अच्छा लगता था और मैं हमेशा ही सोचता था कि सब लड़के मुझे कितना अच्छा मानते हैं और हमेशा ही मुझसे बहुत ही खुश रहते हैं। हमारे क्लास की लड़कियां भी मुझ पर फ़िदा रहती थी और मैं उन्हें बिल्कुल भी भाव नहीं देता था। वह सोचती रहती थी कि किसी भी तरीके से बात कर ले। परंतु मैं उनसे ज्यादा बात नहीं करता था। क्योंकि मैं अपनी क्लास में मॉनिटर भी था और वह लड़कियां बहुत ही ज्यादा लाइन मारती रहती थी। उनमे से मुझे एक लड़की पसंद भी थी। पर वह मुझे पसंद नहीं करती थी। इसलिए मैंने उसे ज्यादा भाव नहीं दिया और वो किसी और की गर्लफ्रेंड है। वह लड़का और मैं बहुत ही अच्छे दोस्त है और हम लोग साथ में ही रहते हैं। मैं जब भी घर पर होता तो मेरी मम्मी और पापा मुझसे बहुत ही खुश हुआ करते थे और मेरी छोटी बहन को मैं बहुत ज्यादा प्यार करता था। मुझे उससे बात करना बहुत ही अच्छा लगता है। मैं उसके साथ ही बैठा रहता था।

एक दिन मेरी मम्मी की एक सहेली हमारे घर पर आई। जब मेरी मम्मी ने बताया कि यह मेरी सहेली है तो मुझे बिल्कुल भी यकीन नहीं हुआ और मैंने अपनी मम्मी से कहा कि आप ऐसा मजाक मेरे साथ क्यों कर रहे हैं। वो कहने लगी कि यह वाकई में मेरी सहेली है। उनका नाम गीतांजलि था। जब उन्होंने मुझे कहा कि हम दोनों साथ में ही पढ़ा करते थे तो मुझे बिल्कुल भी यकीन नहीं हो रहा था। क्योंकि उनकी उम्र बिल्कुल भी ज्यादा नहीं लग रही थी। वह ऐसी लग रही थी जैसे किसी कॉलेज में पढ़ती हो। मुझे बहुत ही अच्छी लग रही थी और जब भी मैं उन्हें देख रहा था तो मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं बस उन्हें ही देखता रहूं और मैं उन्हीं के साथ बैठा हुआ था। वह मुझसे पूछने लगी कि तुम क्या करते हो। मैंने उन्हें बताया कि मैं अभी स्कूल की पढ़ाई कर रहा हूं और आगे अभी नहीं पता क्या करने वाला हूं। वह बहुत ही खुश हो रही थी जब वह मुझसे बात कर रहे थे। मुझे वह बहुत ही ज्यादा अच्छी लग रही थी। अब मैं उनसे बात करना चाहता था। मैंने उनसे उनका नंबर ले लिया और जब मैं उन्हें मैसेज करता हूं तो वह भी मुझे रिप्लाई कर देती लेकिन मेरे दिल में उनके लिए कुछ चल रहा था। परंतु वह सोच रही थी कि मैं उनसे ऐसे ही बात कर लिया करता हूं। मुझे उनसे बात कर कर बहुत ही अच्छा लगता था।

एक दिन मैंने उन्हें फोन पर आई लव यू का मैसेज भेज दिया और वह मुझे कहने लगी कि तुम यह मैसेज मुझे क्यों भेज रहे हो। मैंने उन्हें कहा कि मेरे दिल में आपके लिए कुछ चल रहा है। मैं उसे आपको बताना चाहता था। इसलिए मैंने आपको इस प्रकार का मैसेज भेज दिया। उन्होंने मुझे कहा कि यदि तुम मेरी सहेली के बेटे नहीं होते तो मैं तुम्हारी कंप्लेंट पुलिस में करवा देती। मैंने उन्हें कहा कि जो मेरे दिल में था मैंने आपको बता दिया। अब आप यदि मुझसे बात भी नहीं करना चाहती तो कोई दिक्कत वाली बात नहीं है लेकिन वह कहने लगी कि मैं तुमसे बहुत ज्यादा बड़ी हूं और तुम इस प्रकार की बातें मुझसे कर रहे हो। यह तुम्हें शोभा नहीं देता। अब वह बहुत ही कम बातें किया करती थी। गीतांजलि आंटी जब भी हमारे घर पर आती तो वह मुझसे बिल्कुल भी बात नहीं करती थी। मैंने उन्हें सॉरी बोल दिया था और उन्हें कहा कि आगे से मैं कभी भी इस तरीके से आपको मैसेज नहीं किया करूंगा। उन्होंने मेरी मम्मी को कुछ भी नहीं बताया और अब वह मुझसे दोबारा से बात करने लगे। मैं उन्हें मैसेज भेज दिया करता था तो वह खुद ही सामने से रिप्लाई करने लगी लेकिन मैं अब अपनी मर्यादाओं में रहकर उनसे बात किया करता था।

एक दिन मैंने उन्हें अश्लील मैसेज और चित्र भेज दिए। वह मुझे कहने लगी कि तुम्हें यह सब भी देखते हो। मैंने उन्हें कहा कि मैं सब कुछ देखता हूं क्यों आपको यह सब अच्छा नहीं लगता। कुछ देर तक उन्होंने मुझे रिप्लाई नहीं किया और फिर उन्होंने मुझे रिप्लाई करते हुए कहा कि मुझे यह सब बहुत अच्छा लगता है पर तुम अभी बच्चे हो। मैंने उन्हें कहा आप मुझे आजमा कर देखिए यदि आप को संतुष्ट नहीं कर पाया तो आप मुझसे कभी बात मत करना। उन्होंने कहा ठीक है कल तुम मेरे घर पर आ जाना।  अब में गीतांजलि आंटी के घर पर चला गया। मैं उनके घर पर गया तो उन्होंने एक पतली सी नाइटी पहनी हुई थी और वह उसमें बहुत ही ज्यादा सुंदर लग रही थी। मैंने जैसे ही उनके होठों को किस किया तो मुझे बड़ा ही अच्छा लगा। अब मैंने उनके होठों को किस करते हुए उनके स्तनों को भी दबाना शुरु कर दिया और बड़े ही अच्छे से मैं  उनके स्तनों को दबाए जा रहा था उन्हें भी बहुत मजा आ रहा था। जब मैंने अपने लंड को बाहर निकाला तो वह कहने लगी तुम्हारा लंड तो बहुत ज्यादा मोटा है। मैंने उन्हें कहा कि आप अपने मुंह के अंदर लीजिए और उन्होंने अपने मुंह में मेरे लंड को समा लिया। जैसे ही उन्होंने अपने मुंह के अंदर मेरे डाला तो उसे वह बहुत ही अच्छे से चूसने लगी। वह बहुत ही अच्छे से मेरे लंड को चूस रही थी मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था। मैं उनके गले तक अपने लंड को डाल रहा था। अब वह पूरी उत्तेजित हो चुकी थी तो उन्होंने अपने दोनों पैरों को चौड़ा कर दिया। मैंने जब उनकी योनि में हाथ लगाया तो उस पर एक भी बाल नहीं था। मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था जब मैं उनकी योनि के अंदर उंगली डाल रहा था। मैं अपनी उंगली को अंदर बाहर करने लगा तो वह बहुत ज्यादा खुश हो जाती। वह मुझे कहती कि तुम बहुत ही अच्छे से मेरी चूत मे अपनी उंगली को डाल रहे हो। मैंने अपने लंड को उनकी योनि के अंदर डाल दिया और जैसे ही मैंने अपने मोटे लंड को उनकी योनि में डाला तो वह चिल्ला उठी। वह कहने लगी कि तुम्हारा लंड तो वाकई में बहुत ज्यादा मोटा है। मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था जब मैं उन्हें चोदे जा रहा था। मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं उन्हें धक्के मारता रहूं। मैंने उन्हें बड़ी तेजी से धक्के मारने शुरू कर दिए और मैं बहुत तेज तेज उन्हें चोदे जा रहा था। जिससे कि उनका पूरा शरीर गर्म होने लगा और वह मुझे कहने लगी मेरे शरीर से करंट जैसा कुछ निकल रहा है। मैंने उन्हें कहा कि आप देखते जाइए आपका करंट कहां कहां से निकलेगा। मैंने उनके स्तनों को अपने मुंह में ले लिया और उन्हें इतनी तेज झटके दिए कि उनके गले से आवाज आनी बंद हो गई। वह सिसकियां ले रही थी और पूरे मजे ले रही थी। मैं उन्हें बड़ी तेजी से झटके देने लगा था मेरी सांस भी फूलने लगी और मुझे मजा भी बहुत आ रहा था। वह भी पूरे मजे में आ गई और उन्होंने अपनी चूत को कुछ ज्यादा ही टाइट कर लिया। जब उन्होंने अपनी चूत को टाइट किया तो मेरा वीर्य बड़ी तेजी से उनकी योनि में जा गिरा और जैसे ही मेरा माल उनकी चूत में गिरा तो उन्होंने मुझे कहा कि तुम अब हमेशा ही मेरे घर मुझसे चोदने आया करो। तुमने मुझे बहुत खुश कर दिया है।