मेरी मम्मी की दोस्त

desi chudai ki kahani, antarvasna

हैल्लो फ्रेंड्स, मेरा नाम प्रियांशु है और मैं जबलपुर जिले का रहने वाला हूँ | मैं फिलाहल में कुछ नहीं करता अभी बेरोजगार हूँ | मेरी उम्र 21 साल है और मैं दिखने में सांवला हूँ | मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है और मेरा बदन गँठीला है | मेरे पापा मुंबई में जॉब करते हैं और मेरी मम्मी एक लेडीज क्लब की मेम्बर हैं | मेरा एक बड़ा भाई है जो रेलवे में सरकारी नौकरी करता है | हमारा परिवार काफी खुशहाल परिवार है और हम दोनों बहुत अच्छे से रहते हैं | अकसर घर में मैं ही अकेला रहता हूँ | क्यूंकि मम्मी तो क्लब में होने वाले फंक्शन में ही ज्यादातर रहती हैं | मेरी मम्मी की एक फ्रेंड हैं और वो भी उस क्लब की मेम्बर हैं | उनका नाम दिशा है और उनकी उम्र 32 साल है पर वो दिखने में आज भी 25 साल की लगती हैं | उनका गोरा बदन, खुले बाल, बड़ी बड़ी गोल गोल आँखे, उभरे हुए मम्मे, बड़ी गोल उठी हुई चूतड़ | उन्हें देख कर तो किसी का भी मन हो जायेगा चोदने का | दिशा आंटी विधवा हैं और उनके घर पर सिर्फ उनके सास ससुर रहते हैं | उनके पति का देहांत शादी के 5 महीने बाद ही हो गया था इसलिए उन्हें कोई भी बच्चा नहीं है |

मेरी मम्मी और दिशा आंटी बचपन की दोस्त हैं पर मेरी मम्मी उनसे सीनियर थी स्कूल में और फिर उस क्लब में जब वो मिले तो और गहरी दोस्ती हो गई | आंटी अकसर हमारे घर आया जाया करती थी और जब मम्मी मुझे किसी काम से मुझे उनके घर भेजती तो आंटी मुझे बहुत से खाना पीना नाश्ता कराती | आंटी मुझे बहुत पसंद करती थी और वो मेरे गाल हरदम खींचते रहती थी | उनका कोई बच्चा नहीं है इसलिए शायद आंटी मुझे इतना प्यार करती हैं | आंटी के सास ससुर की तबियत ख़राब रहती है इसलिए वो उनकी देखभाल ज्यादा करती हैं | आंटी सच में घर का बहुत काम करती हैं | साथ में वो सोशल वर्कर भी हैं | एक बार की बात है मम्मी ने मुझे एक गिफ्ट दिया और कहा कि इसको ले जा कर दिशा आंटी को दे आ | मैंने कहा ठीक है | उस समय मैं उनके बारे में कुछ भी गलत नहीं समझता था | मैं उन्हें बहुत अच्छा मानता था और कभी नहीं सोचा था कि उनको चोदने का मौका मिलेगा | मैं उनके घर पंहुच गया |

मैंने डोर बेल बजाय तो आंटी ने ही दरवाजा खोला | उन्होंने फिर मेरे गाल खींचे और पुछा ये क्या है ? मैंने कहा मुझे नहीं पता आंटी आप खुद देख लो | आंटी ने मुझसे कहा बेटा मुझे आंटी मत बोला करो भले ही भाभी बोल दिया करो | मैंने कहा ठीक है अब से भाभी ही बोलूँगा | उसके बाद उन्होंने मुझे अन्दर बुलाया और मुझे नाश्ता दिया | मैंने उनसे कहा अरे भाभी इसकी क्या जरूरत थी | आप हर बार कुछ न कुछ खिलते रहते हो मुझे | तो उन्होंने कहा खा लो यार अब ज्यादा नखरे भी मत बताओ प्रियांशु | उन्होंने गिफ्ट खोला और मुझे देख कर बंद कर दिया | मैंने उनसे पुछा कि क्या है इसमें ? तो उन्होंने कहा कुछ नहीं बस ऐसे ही मेरे काम की चीज़ है | मैंने कहा अच्छा | फिर उन्होंने मुझसे पुछा कि तेरी कोई गर्लफ्रेंड है ? मैंने कहा नहीं भाभी अभी तक तो नहीं है वैसे स्कूल में एक लड़की थी मैं उससे प्यार करता था पर उसका ट्रान्सफर हो गया तो मैं कह भी नहीं पाया | फिर उन्होंने पुछा कि कैसे दिखती थी वो ? मैंने बताया काफी सुन्दर दिखती थी | फिर उन्होंने कहा मुझसे भी ज्यादा सुदर | तो मैंने कहा नहीं भाभी आप तो बिलकुल एटम बम हो |

ये सुन कर भाभी मुस्कुराने लगी और मेरे पास आ कर बैठ गई | उन्होंने मुझसे पुछा तुम्हे मुझे क्या क्या अच्छा लगता है ? मैं एक दम शर्म से लाल हो गया और कुछ नहीं बोला | फिर उन्होंने मेरा चेहरा अपनी तरफ कर दिया और कहा बताओ न मैं किसी को नहीं बोलूंगी | मैंने कहा भाभी मुझे सब कुछ अच्छा लगता है | फिर उन्होंने कहा नाम बताओ  क्या क्या ? अब मैं भी शर्म छोड़ चूका था और मैंने साफ़ कह दिया | मुझे आपका चेहरा, आपके बूब्स और आपके चूतड़ बहुत अच्छे लगते हैं | वो अब और ज्यादा मुस्कारने लगी | उन्होंने मुझसे कहा चलो मैं तुम्हे अपने रूम में ले चलती हूँ | जब मैं उनके रूम गया तो उन्होंने मुझसे पुछा कि क्या तुमने कभी किसी नंगी लड़की देखा है ? मैंने कहा हाँ बस ब्लूफिल्म में देखा है | उन्होंने कहा अच्छा रियल में कभी देखा है ? मैंने कहा नहीं रियल में तो कभी नही देखा | फिर उन्होंने कहा देखना चाहोगे | मैंने अपनी बड़ी बड़ी आँखे कर लिया और कहा हाँ | फिर उन्होंने धीरे धीरे अपने टॉप को उतार दिया और मैं घूर घूर कर उनके बड़े बड़े मम्मे देखने लगा | फिर उन्होंने कहा इधर आओ इसको दबाव | मेरे लिए ये सब नया था | मैं उनके दोनों मम्मों को साथ में दबा रहा था | फिर उन्होंने अपने ब्रा को भी उतार दिया और मेरे सामने मम्मे आजाद थे |

ये देख कर मेरा लंड लोअर से बाहर आने को तड़पने लगा | उसके बाद भाभी ने मेरे भी टी-शर्ट को उतार दी और मेरे लोअर के ऊपर से लंड को मसलते हुए बोली तुम्हारा औजार तो काफी मोटा लग रहा है | मैंने कुछ नहीं कहा और चुपचाप उनके मम्मों को दबाता रहा | फिर उन्होंने अपनी जीन्स को उतार दिया और पेंटी भी | अब वो मेरे सामने पूरी नंगी खड़ी थी | उन्हें देख कर मैं पागल सा हो गया और तुरंत ही अपने लोअर और अंडरवियर को उतर दिया | अब हम दोनों नंगे एक दुसरे के सामने थे | भाभी मेरे पास आई और मेरे लंड को हाँथ में ले कर हिलाने लगी | बोली आज इतने समय बाद मुझे एक नया लंड खाने मिलेगा | उन्होंने मेरा लंड 5 मिनट ही हिलाया होगा कि मेरा ढेर सारा माल उनकी छाती पर गिर गया | भाभी ने मुझसे पुछा कभी मुट्ठ नहीं मारा क्या ? मैंने कहा नहीं भाभी | उसके बाद उन्होंने मेरे होंठ में अपने होंठ रख दी और मेरे होंठ को जोर जोर से चूसने लगी | मुझे भी अच्छा लग रहा था उनका ऐसा करना तो मैं भी उनका साथ देते हुए उनके होंठ को चूस रहा था |

वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे लंड को हिलाते हुए खड़ा करने लगी | मैं भी उनके होंठ को चूसते हुए उनके मम्मों को दबा रहा था | उसके बाद मैंने उनके मम्मों अपने मुंह में लिया और चूसने लगा तो उनके मुंह से आहा ऊंह य्म्म्ह आहाऊ ऊंह मह आ की सिस्कारियां निकलने लगी | मैं उनके मम्मों को जोर जोर से दबा दबा कर चूस रहा था और वो आहा ऊंह य्म्म्ह आहाऊ ऊंह मह आ करते हुए मेरे लंड को हिला रही थी | उसके बाद उन्होंने मेरे लंड को अपने मुंह में ले कर चूसने लगी तो मेरे मुंह से भी आहा ऊंह य्म्म्ह आहाऊ ऊंह मह आ की सिस्कारियां निकलने लगी | वो मेरे लंड को जोर जोर से आगे पीछे करते हुए चूस रही थी और मैं आहा ऊंह य्म्म्ह आहाऊ ऊंह मह आ की लगातार सिस्कारियां ले रहा था | मेरे लंड को चूसने के बाद वो मेरे अन्टोलो को भी चूसने लगी | उसके बाद उन्होंने चूत चाटने को कहा | मैंने कहा ठीक है | वो अपनी दोनों टांगो को चौड़ा कर के पलंग पर लेट गई | मैं भी अपनी जीभ से उनकी चूत को चाटते हुए सहलाने लगा तो वो आहा ऊंह य्म्म्ह आहाऊ ऊंह मह आ करते हुए आन्हे भरने लगी | मैं उनकी चूत को चाटते हुए ऊँगली डाल कर भी चोदने लगा और वो आहा ऊंह य्म्म्ह आहाऊ ऊंह मह आ करते हुए मेरे मुंह को अपनी चूत पर दबाने लगी | उसके बाद उन्होंने कहा कि अब मुझसे और इन्तेजार नहीं होता अब बस मुझे चोदो |

मैंने भी देर न करते हुए अपने लंड उनकी चूत में डाला और चोदने लगा और वो आहा ऊंह य्म्म्ह आहाऊ ऊंह मह आ करते हुए अपनी कमर हिला हिला कर चुदवाने लगी | मैं जोर जोर से धक्के मारते हुए चोदने लगा और वो आहा ऊंह य्म्म्ह आहाऊ ऊंह मह आ करते हुए अपने मम्मों को दबाने लगी | उसके बाद मैंने उनको घोड़ी बना दिया और उनके पीछे जा कर अपने लंड को चूत में रगड़ कर अन्दर घुसेड दिया और चोदने लगा और वो आहा ऊंह य्म्म्ह आहाऊ ऊंह मह आ करते हुए अपनी गांड आगे पीछे करते हुए चुदाई में साथ देने लगी | करीब मैंने उन्हें 45 मिनट तक चोदा और उनकी चूत में ही झड़ गया | उस दिन मैंने उनको दो बार चोदा और एक बार गांड भी चोदा | तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी मैं आशा करता हूँ कि पसंद आई होगी |